नवरात्रि में उपवास के 10 टिप्स: व्रत रखने का सेहतमंद तरीका अपनाएं और अस्वस्थ होने से बचें
26 Sep 2017
नवरात्रि एक बहुप्रतीक्षित त्योहार है और इसकी शुरूआत इस साल 21 सितंबर से हो रही है। नौ दिनों तक चलने वाले इस त्योहार के दौरान देवी शक्ति के नवरूपों की पूजा की जाती है। नवरात्रि उपवास, शरीर को आंतरिक रूप से साफ करने और आने वाले ठंड के मौसम के लिये शरीर की रोगप्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने का समय होता है। इस दौरान ज्यादातर लोग अनाज, दालें और मांस-मछली नहीं खाते। हालांकि, उपवास के दौरान भूख मिटाने के लिये वे ऐसी चीजों का सेवन करते हैं, जिनसे सेहत को नुकसान पहुंच सकता है। इंडस हेल्थ प्लस की प्रीवेंटिव हेल्थकेयर स्पेशलिस्ट कंचन नायकवाड़ी ने कहा, ‘‘लोगों को ऐसा लगता है कि नवरात्रि के दौरान उपवास करने से उनकी फिटनेस और सेहतमंद होने का लक्ष्य पूरा हो सकता है। लेकिन सच तो यह है कि तली-भुनी और चिकनाई युक्त चीजें खाकर उपवास करने से शरीर को नुकसान पहुंचता है। इसलिये, मौसम में बदलाव का ध्यान रखते हुये अच्छा और सेहतमंद आहार लेना आवश्यक होता है और इसमें नवरात्रि अहम भूमिका निभाती है।’’ यहां पर विशेषज्ञों के कुछ टिप्स दिये गये हैं, जो आपको उपवास के दौरान सेहतमंद बनाये रखेंगे.... -नियमित अंतराल पर थोड़ा-थोड़ा खाना अच्छा रहता है, इससे ब्लड ग्लूकोज के स्तर को बनाये रखने में मदद मिलती है और पूरे दिन आपको काम करने की स्फूर्ति मिलती है। -हमेशा ही शरीर को हाइड्रेटेड बनाये रखने की सलाह दी जाती है। पानी के अलावा अन्य तरल पदार्थों को इस सूची में शामिल किया जा सकता है, जैसे नारियल पानी, ग्री टी, छाछ और नींबू पानी भी काफी अच्छे होते हैं। -वैसे उपवास में खाई जानी वाली ज्यादातर चीजें तली-भुनी होती हैं, लेकिन उनकी जगह बेक की हुई, रोस्ट की गई या फिर ग्रिल की हुई सब्जियां भोजन को सेहतमंद बनाती हैं। -कार्बोहाइड्रेट और फाइबरयुक्त खाद्य पदार्थों के मिश्रित रूप वाला भोजन सेहतमंद विकल्प हो सकता है। आलू और साबूदाना (बड़े पैमाने पर उपवास में खाया जाता है) में कार्बोहाइड्रेट काफी अधिक मात्रा में होता है, जिन्हें शिमला मिर्च, टमाटर, पालक और गोभी जैसी सब्जियों के साथ मिलाकर खाया जा सकता है। नवरात्रि के दौरान आमतौर पर खाया जाने वाला कुट्टू का आटा भी कार्बोहाइड्रेट (70-75 प्रतिशत) और प्रोटीन (20-25 प्रतिशत) का बेहतरीन मिश्रण होता है। -अमरनाथ (राजगिरी) प्रोटीन का बेहतरीन स्रोत होता है, जिन्हें उपवास के दौरान खाया जा सकता है। आप अमरनाथ का बना दलिया दूध के साथ तैयार कर सकते हैं या फिर ढेर सारी सब्जियों के साथ चटपटा दलिया बना सकते हैं। -ऊर्जा के संकेंद्रित स्रोत जैसे नट्स और मेवे खाने से पूरे दिन ऊर्जा का स्तर बना रहता हैै। साबुत फल खाना, हमेशा ही जूस लेने से बेहतर माना जाता है, क्योंकि इससे आपको जरूरी फाइबर मिलते हैं और आप दिनभर पेट भरा हुआ महसूस करते हैं। अपने भोजन में डेयरी प्रोडक्ट्स की मात्रा बढ़ाएं खासकर दही और काॅटेज चीज के रूप में छाछ या लस्सी लें। -भोजन में सामा के चावल को शामिल करने से वो स्वादिष्ट होने के साथ-साथ पचने में भी आसान होते हैं। मीठे के शौकीन सामा के चावल की खीर को फलों के साथ लेकर संतुष्टि पा सकते हैं। -नवरात्रि के दौरान खासतौर से लिया जाने वाला सेंधा नमक, सेहत के लिये बहुत फायदेमंद होता है, क्योंकि यह पोषक तत्वों को ग्रहण करने में मदद करता है। -शक्कर की जगह उसके सेहतमंद विकल्प गुड़ या शहद को शामिल करें। -उपवास के दौरान भी व्यायाम करना जरूरी होता है। सुबह के समय योग और शाम में 40-50 मिनट की ब्रिस्क वाॅक करने से स्वस्थ रहने में मदद मिलती है और आलस दूर भागता है।

अन्य खबर