अपने गांव से पीएम मोदी ने कांग्रेस को दिया जवाब, बताया विकास का मतलब
09 Oct 2017
वडनगर/अहमदाबाद, 09 अक्टूबर (धर्म क्रान्ति)। पीएम बनने के बाद पहली बार अपने गांव वडनगर पहुंचे मोदी ने रविवार को एक जनसभा को संबोधित किया। उन्होंने अपनी सरकार के विकास कार्य गिनाए और कांग्रेस पर भी निशाना साधा। विकास पागल हो गया है, जैसे जो सवाल उठाए जा रहे हैं, मोदी ने उसका भी जवाब दिया। भाषण के दौरान गुजराती भाषा में लोगों से विकास का मतलब भी पूछा। कहा, क्या अस्पताल का निर्माण विकास है तो लोगों ने हां में जवाब दिया। इसके अलावा कई बातें विकास को लेकर कीं। विपक्ष को आडे़ हाथ लेते हुए कहा वाजपेयी के शासनकाल में स्वास्थ्य नीति बनी थी। 10 साल तक जो सरकार रही, विकास से उसे नफरत थी। अब जाकर हमारी सरकार ने नई नीति बनाई है। मोदी ने कहा कि आज मैं जो कुछ भी हूं, इसी मिट्टी के संस्कारों के कारण हूं। मैं इसी मिट्टी में खेला हूं। आप लोगों के बीच पला-बढ़ा हूं। उन्होंने बताया कि एक बार जनरल करियप्पा कर्नाटक में अपने गांव गए थे तो उन्होंने कहा था, दुनिया में मुझे बहुत स्वागत, सम्मान मिला लेकिन अपनों के बीच जब सम्मान होता है तो उसकी अनुभूति कुछ और होती है। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार से पूरे क्षेत्र के लोगों ने मुझे अपार प्यार में भिगो दिया है, मैं आपको और इस धरती को नमन करता हूं। आगे कहा कि हाटकेश्वर मंदिर जाते समय पुरानी यादें ताजा हो गईं। मैंने आज कई पुराने दोस्तों को देखा। कुछ के दांत भी नहीं बचे हैं। कुछ पुराने दोस्तों को देखा, हाथ में लकड़ी लेकर चल रहे हैं। उन्होंने कहा, आज मैं अपने गांव की मिट्टी से नई ऊर्जा लेकर जा रहा हूं। मैं देश के लिए पहले से ज्यादा पुरुषार्थ और मेहनत करूंगा। आपने जो मुझे सिखाया, दिनोंदिन सिर ऊंचा करता रहूं, प्रयास में कमी नहीं रखूंगा। उन्होंने कहा कि वडनगर में हाटकेश्वर के दर्शन करते-करते भोले बाबा की नगरी काशी पहुंच गया हूं। भोले बाबा के आशीर्वाद से मुझे ताकत मिलती है। मोदी ने कहा कि जब मैं सीएम था तो राज्य के पुरातत्वविद विभाग से वडनगर में खुदाई के लिए कहा था। वडनगर में खुदाई से जो निकला है, अब वह पूरी दुनिया के लिए आकर्षण का केन्द्र बन चुका है। पुरातत्व विभाग का कहना है कि वडनगर में हमेशा से लोग रहे हैं, यह कभी मृतप्राय नहीं रहा। वडनगर 2500 वर्षों से हमेशा जीवित रहा है। कहा, चीन के प्रसिद्ध बौद्ध भिक्षु ह्वेनसांग मेरे गांव वडनगर में आकर रुके थे। वडनगर ढाई हजार साल पहले आनंदपुर नाम से जाना जाता था। पुरातत्व विभाग की खुदाई से यह पता लगवाया गया। इससे वडनगर को नई पहचान मिली। ह्वेनसांग ने लिखा था कि यहां उस समय बौद्ध भिक्षुओं की शिक्षा-दीक्षा होती थी। चीन दौरे के समय वहां के राष्ट्रपति मुझे अपने गांव ले गए थे। उन्होंने बताया था कि उनके और मेरे गांव के बीच एक अनूठा रिश्ता है। ह्वेनसांग जब वडनगर से लौटे थे तो वह चिनफिंग के गांव में ही रुके थे। चिनफिंग ने ह्वेनसांग के लेखों को पढ़कर सुनाया। उन्होंने बताया था कि वडनगर का पुराना नाम आनन्दपुर था। कहा कि यहां आसपास के इलाकों में बुद्ध, जैन मुनियों से जुड़े कई पावन स्थल हैं। उन्होंने बताया कि आज कई कार्यक्रम का लोकार्पण हुआ है लेकिन सबसे महत्वपूर्ण इन्द्रधनुष अभियान है। देश के जो बच्चे टीकाकरण से रह गए हैं, उन्हें इस अभियान से लाभ होगा। उन्होंने लोगों से इस अभियान में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेने का भी आह्वान किया, जिससे गरीब मां के बच्चों को लाभ हो। मोदी ने कहा, हमें पता लगा कि स्टेंट बहुत महंगा मिलता है। जिस स्टेंट की कीमत 2 लाख होती थी वह आज 30-40 हजार में उपलब्ध है। हृदय रोगियों के लिए स्टेंट की कीमत कम की गई। गरीब को सस्ती दवाइयां मिल रही हैं। देश के लाखों डॉक्टरों ने मेरी अपील पर महीने की 9 तारीख को मुफ्त में गरीब प्रसूता माता का मेडिकल चेकअप शुरू किया। एक साल में करीब 80 लाख माताओं को लाभ हुआ। उन्होंने एक बार फिर साल में 12 दिन मुफ्त में इलाज करने का आह्वान किया। मोदी ने कहा कि स्वास्थ्य की गारंटी डॉक्टरों, अच्छे खानपान पर आधारित नहीं होती है बल्कि यह स्वच्छता पर निर्भर होती है। कहा कि आज पूरा गुजरात खुले में शौच से मुक्त है। मैं गुजरात सरकार का अभिनंदन करता हूं कि उसने खुले में शौच से मुक्त करने का अभियान चलाया और सफलता हासिल की। गरीब को स्वच्छता से बढ़िया स्वास्थ्य मिलेगा इसलिए हमने अभियान चलाया। कहा कि स्वच्छता से हर साल एक गरीब के 50,000 रुपये तक बच जाते हैं। मोदी ने कहा कि वडनगर गांव के बेटे के कारण मेडिकल कॉलेज के लिए मैं सीएम को बधाई देता हूं। आगे कहा कि हमने पीजी की 6000 नई सीटों का ऐलान किया। इससे डॉक्टरों की कमी दूर होगी। पीएम ने बताया कि आज हेल्थ वर्करों को टैबलेट दी गई, इससे स्वास्थ्य क्षेत्र में लाभ होगा। उन्होंने टैबलेट स्कीम को संक्षेप में टेको नाम भी दिया। कहा कि जब तक सही डेटा नहीं होता है, सही पॉलिसी नहीं बनती है। जय हाटकेश के नारे के साथ उन्होंने भाषण समाप्त किया। इस दौरान गुजरात के सीएम विजय रुपानी के अलावा केन्द्रीय मंत्री जे. पी. नड्डा भी मौजूद थे। इससे पहले बड़ी संख्या में लोगों ने मंच पर पीएम का स्वागत किया। कुछ ने माला पहनायी तो कुछ ने हाथ मिलाकर पैर छुए। दिलचस्प बात यह है कि जनसभा के दौरान जब पीएम मोदी मंच पर बैठे थे, उनके छोटे भाई पंकज मोदी आम लोगों की तरह भीड़ में बैठे थे। मोदी का भव्य स्वागत किया जा रहा था तो छोटे भाई सभा में आम नागरिक की तरह बैठे उन्हें देख रहे थे। एक चैनल से बातचीत में उन्होंने कहा कि मैं कोई वीआईपी नहीं हूं। उनके पास कोई विशेष पास भी नहीं था। इससे पहले मोदी ने वडनगर में 6 किमी लंबा रोड शो किया। उन्होंने मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल का उद्घाटन किया। वह अपने स्कूल गए और गांव के हाटकेश्वर मंदिर में भी विशेष पूजा की।

अन्य खबर