वेंकैया नायडू ने भाजपा से इस्तीफा दिया, हो गये भावुक

नई दिल्ली, 18 जुलाई (धर्म क्रान्ति)। उपराष्ट्रपति पद के लिए नामांकन पत्र दाखिल करने के बाद एम. वेंकैया नायडू ने भाजपा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया और कहा कि अब मैं किसी पार्टी का हिस्सा नहीं हूँ। अपने सम्मान में आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए वेंकैया भावुक हो गये और कहा कि मैं जब एक साल का था तभी मेरी माँ का निधन हो गया था और बाद में मैंने पार्टी को ही माँ मान लिया था इसलिए अब इससे दूर जाते हुए दुख हो रहा है। वेंकैया ने समर्थन और सहयोग देने के लिए भाजपा और राजग के नेताओं का आभार जताया और उपराष्ट्रपति पद के लिए अपने नामांकन के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को धन्यवाद दिया। वेंकैया ने आज नामांकन दाखिल करने से पहले भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी और डॉ. मुरली मनोहर जोशी के आवास जाकर उनसे मुलाकात की थी। उपराष्ट्रपति पद के लिए अपने नाम की घोषणा के बाद वेंकैया नायडू ने सोमवार रात भाजपा कार्यालय में वक्त बिताया था और यहां काम करने वाले लोगों से मुलाकात की थी। नायडू बतौर पार्टी नेता अंतिम बार संसदीय बोर्ड की बैठक में भी शामिल हुए थे।