भारत में अब होगी मुक्केबाजी लीग

नई दिल्ली, 02 मार्च (धर्म क्रांति)। देश में चल रही कई खेलों की लीग की तर्ज पर अब भारतीय मुक्केबाजी महासंघ (बीएफआई) ने इस साल मुक्केबाजी लीग कराने का फैसला किया है। बीएफआई के अध्यक्ष अजय सिह ने बुधवार को यहां आईजी स्टेडियम में संवाददाता सम्मेलन में यह घोषणा की। अजय सिंह ने कहा अपने मुक्केबाजों को भरपूर मौके देने के लिये अब हम मुक्केबाजी लीग का आयोजन करने जा रहे हैं जो इसी साल होगी। इसमें भारतीय मुक्केबाजों के साथ साथ अंतरराष्ट्रीय मुक्केबाज भी हिस्सा लेंगे। इससे भारतीय मुक्केबाजों को पैसा और नाम दोनों मिलेंगे। अजय सिह ने बताया कि पिछले कुछ वर्षों में मुक्केबाजी संघ के निलंबित रहने के कारण कई राष्ट्रीय चैंपियनशिप आयोजित नहीं हो पायी थी लेकिन बीएफआई ने भारतीय मुक्केबाजों के लिये एक व्यापक कार्यक्रम बनाया है जिसमें मुक्केबाजी लीग के साथ साथ इस साल नवंबर में विश्व युवा महिला मुक्केबाजी चैंपियनशिप का आयोजन भी किया जाएगा। उन्होंने कहा हम नवंबर में युवा महिला विश्व मुक्केबाजी प्रतियोगिता का आयोजन करेंगे जिससे 2020 ओलंपिक के लिये हमें संभावित खिलाड़ी मिलेंगे। मुक्केबाजी लीग और इस विश्व प्रतियोगिता से हमारे खिलाड़यिों को खुद को साबित करने का अंतरराष्ट्रीय मंच मिलेगा। अजय सिह पिछले तीन दिनों में यहां अंतरराष्ट्रीय मुक्केबाजी संस्था (आईबा) के आयोगों के सम्मेलन के बाद संवाददाता सम्मेलन में बीएफआई के कार्यक्रमों की रूपरेखा रख रहे थे। भारतीय मुक्केबाजी की हाल में अंतरराष्ट्रीय जगत में वापसी के बाद भारत में मुक्केबाजी की वैश्विक इकाई आईबा के आयोगों की यह पहली बैठक थी। आईबा के आयोगों की यह 71 वीं बैठक थी जिसमें संस्था के 11 आयोगों के चेयरपर्सन ने हिस्सा लिया। बैठक में चर्चा का मुख्य विषय विश्व मुक्केबाजी का विकास और इसका भविष्य था। बीएफआई के अध्यक्ष ने कहा हमारा लक्ष्य भारत को विश्व मुक्केबाजी में फिर से एक ताकत बनाना है। हमने पहली बार आईबा आयोगों की बैठक का आयोजन किया और उन्हें अपनी क्षमता से वाकिफ कराया। हमने उन्हें विश्वास दिलाया कि बीएफआई आईबा का अभिन्न अंग बना रहेगा। अजय ने कहा हम हर साल देश में एक बड़ी अंतरराष्ट्रीय चैंपियनशिप कराने का लक्ष्य रखते हैं जिसकी शुरूआत विश्व युवा महिला चैंपियनशिप से होगी। हम डब्ल्यूएसबी के अगले संस्करण का भी हिस्सा रहेंगे जो ओलंपिक क्वालिफायर होगा। इसके लिये हम आईबा के नजदीकी सहयोग के साथ काम करेंगे। उन्होंने बताया कि आईबा के सहयोग से भारत में अंतरराष्ट्रीय मुक्केबाजी अकादमी को शुरू किया जाएगा। उन्होंने कहा मेरे साथ इस समय आईबा के अध्यक्ष डा. चगि कुओ वू मौजूद हैं जो पहली बार भारत आये हैं। उन्होंने हमें पूरा सहयोग देने का आश्वासन दिया है। तीन दिन तक चली इस बैठक में आईबा प्रो मुक्केबाजी के सदस्यों के अलावा एथलीट एवं युवा, कोच, अनुशासन, नैतिकता, चिकित्सा, रेफरी, वैज्ञानिक, तकनीकी एवं नियम, महिला तथा विश्व सीरीज मुक्केबाजी के सदस्यों ने हिस्सा लिया।