*पुलिसिया तांडव की आपबीती: वो 40 पुलिसवाले घर में घुसे,आवाज देती रही बहन,गुंजा बचाओ किसी को बुलाओ*
03 May 2022
*पुलिसिया तांडव की आपबीती: वो 40 पुलिसवाले घर में घुसे,आवाज देती रही बहन,गुंजा बचाओ किसी को बुलाओ*

चंदौली।गैंगस्टर कन्हैया यादव की बेटी गुंजा यादव ने पुलिसिया तांडव को बयां करते हुए बताया कि हम लोग छत पर थे।लगभग 40 पुलिसवाले घर आए थे और डायरेक्ट घर में घुसने लगे। हम लोग गेट बंद करने की कोशिश करने लगे तो इन लोगों ने धक्का मारकर खोल दिया।जब हमने विरोध किया तो हमें मारने लगे। बाद में एक लेडीज और जेंट्स कॉन्स्टेबल ने मुझे पकड़ लिया।दीदी ने मुझे देखा तो खुद को बचाने के लिए दूसरे कमरे में भागी और दरवाजा बंद कर लिया,लेकिन गेट खोलकर उसे पीटा गया।वह कुछ देर तक मुझे आवाज देती रही। गुंजा बचाओ, किसी को बुलाओ।गुंजा यादव अपनी बहन को यादकर रो रही है।आरोप है कि गैंगस्टर कन्हैया यादव के घर दबिश देने गई पुलिस ने दोनों बेटियों की बड़ी बेरहमी से पीटाई की।मृतक की बहन गुंजा का आरोप है कि पुलिस की पिटाई से निशा की मौत हुई है।

पुलिसिया तांडव के बाद क्षेत्र में तनाव का माहौल बना हुआ है।ग्रामीण और पुलिस के बीच झड़प भी हुई है। सैयदराजा इंस्पेक्टर को सस्पेंड कर दिया गया है,लेकिन पीड़ित परिवार इंसाफ मांग कर रहा है,क्या पीड़ित परिवार को इंसाफ मिलेगा।
इस पुलिसिया तांडव ने उत्तर प्रदेश पुलिस को एक बार फिर सवालों के घेरे में खड़ा कर दिया है।

*ऐसा मत कीजिए, दीदी की शादी होने वाली है*

मनराजपुर गांव में पुलिस ने तांडव किया है।मृतक की बहन गुंजा ने कैमरे के सामने बताया कि हम लोग पुलिसवालों से कहते रहे कि ऐसा मत कीजिए सर,हम लोगों का एग्जाम है, दीदी की शादी होने वाली है। उसके बावजूद वे लोग नहीं माने। इसके बाद कमरे से आवाज आना बंद हो गई। एक कॉन्स्टेबल नीचे कुर्सी लेकर गया। मैंने बोला कि ये क्या कर रहे हैं। मैंने उसका हाथ पकड़ा तो मुझे ब्लड लगा तो उसने हमको झटक दिया। उसके बाद वह अंदर गया। सभी 5-10 मिनट के बाद बाहर आए और बोले कि इस लड़की को छोड़ दो। फिर सब चले गए। उनके जाने के 10 सेकेंड के भीतर हम उस कमरे में पहुंचे। देखे तो दीदी पंखे से लटकी हुई थी और उसका पैर जमीन को छूते हुए मुड़ा हुआ था।

एक सवाल के जवाब में गुंजा ने बताया कि पुलिसवाले जब आए तो हम दोनों बहनें थीं।वही लोगों ने बहन को मारा, वह रोती रही।ये लोग जब हमें छोड़कर जाने लगे,जब हमने भागकर देखा तो दीदी को साड़ी की हल्की गांठ से बांधा गया था। उनका पैर फर्श से छू रहा था और मुड़ा हुआ था। एक हाथ से मैंने गांठ को खोला वह काफी हल्की थी। दीदी को वहीं पर लिटा दिया। एक बाइक वाले से रिक्वेस्ट किया,लेकिन वह मोबाइल नहीं दिया और भाग गया। फिर एक दादी की मदद से गांव वालों को बुलाया गया।

*पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में गले के पास खरोंच*

एसपी अंकुर अग्रवाल ने बताया है कि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में गले के पास एक खरोंच है और बाएं जबड़े के नीचे एक छोटी सी चोट है। इसके अलावा शरीर पर कोई अंदरूनी या बाहरी चोट नहीं आई है। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में मौत का कारण अज्ञात लिखा गया है। विसरा को सुरक्षित रखा गया है, विसरा को भेजा जाएगा, जो रिपोर्ट आएगी उसके बाद ही मामले में कार्रवाई की जाएगी। मीडिया में रेप की बात कही जा रही थी, इस संबंध में बता दें कि कोई भी अंदरूनी अंग पर चोट नहीं आई है।

अन्य खबर