रामदेव का हर द्वार मिशन, अब ऑनलाइन भी मिलेंगे पतंजलि के प्रॉडक्ट्स
17 Jan 2018
नई दिल्ली, 17 जनवरी (धर्म क्रान्ति)। पतंजलि प्रॉडक्ट्स अब सभी बड़े ई-कॉमर्स प्लैटफॉम्र्स पर भी उपलब्ध होंगे। लोग ऐमजॉन, फ्लिपकार्ट, पेटीएम मॉल, ग्रोफर्स और बिगबास्केट समेत अन्य बड़े ऑनलाइन पोर्टल से पतंजलि के सारे उत्पाद ऑर्डर कर सकते हैं। इन कंपनियों के अलावा पतंजलि शॉपक्लूज एवं नेटमेड्स के मंचों से भी अपने उत्पाद बेचेगी। पतंजलि के उत्पाद ऑनलाइन बेचने के लिए नई दिल्ली में मंगलवार को बाबा रामदेव ने प्रमुख ई-रिटेलर अमेजन और फ्लिपकार्ट के साथ करार किया। कार्यक्रम में रामदेव और पतंजलि के एमडी और सीईओ आचार्य बालकृष्ण के अलावा साझेदार ई-कॉमर्स कंपनियों के प्रतिनिधि भी मौजूद थे।

इस दौरान बाबा रामदेव ने रिटेल सेक्टर में एफडीआई का विरोध किया। उन्होंने कहा कि रटिेल सेक्टर में एफडीआई नहीं आना चाहिए। बाबा रामदेव ने कहा कि अब पतंजलि नॉट फॉर प्रोफिट कंपनी बनने की तरफ बढ़ेगी। इसके लिए कंपनी आने वाले समय में 1 लाख करोड़ रुपये की चैरिटी करेगी। उन्होंने कहा कि हम लोगों से दान भी लेंगे। रामदेव ने बताया कि उन्होंने आने वाले 50 सालों के लिए मास्टर प्लान तैयार कर रखा है जिसमें शिक्षा, हेल्थ, नैचरोपैथी, गांव, गौसेवा आदि पर काम होना है। योगगुरु ने बताया कि पतंजलि को शेयर बाजार में लिस्ट करवाने का कोई इरादा नहीं है।

बाबा रामदेव ने कहा, वह पतंजलि की मुंबई (शेयर मार्केट) में लिस्टिंग नहीं करवाएंगे, बल्कि इसे लोगों के दिलों में लिस्ट करेंगे। उन्होंने कहा कि ऑनलाइन के माध्यम से सालाना 1 से 2 हजार करोड़ रुपये के पतंजलि उत्पाद बेचने का लक्ष्य रखा गया है। अपनी प्रॉडक्शन कपैसिटी के बारे में रामदेव ने बताया कि यह फिलहाल 30,000 करोड़ रुपये है जिसे इसी साल तक बढ़ाकर 50,000 करोड़ रुपये करना है। रामदेव ने कहा कि अगले दो सालों में 1 लाख करोड़ रुपये की प्रॉडक्शन कपैसिटी बनाने की योजना है। रामदेव ने कहा, इतनी बड़ी प्रॉडक्शन कपैसिटी के बारे में कोई एफएमसीजी कंपनी सोच भी नहीं सकती। उन्होंने बताया कि 11,000 से ज्यादा ब्रैंड्स पर रिसर्च करनेवाली एक एजेंसी ने पिछले दिनों पतंजलि को नंबर वन का दर्जा दिया।

योग गुरु ने कहा, यह हमारे लिए गौरव की बात है। योगगुरु ने यह भी बताया कि यूपी के हरिद्वार और नोएडा, असम के तेजपुर, महाराष्ट्र के नागपुर आदि जगहों पर पतंजलि की यूनिट लगाने पर काम हो रहा है। रामदेव ने आगे कहा कि 25 वर्ष पहले शुरू हुई पतंजलि अगले दो-तीन वर्षों में 50 हजार से 1 लाख करोड़ का मार्केट बनाना चाहती है जिसमें से 1 लाख करोड़ रुपये चैरिटी में लगाए जाएंगे। इस मौके पर एचडीएफसी की ओर से स्मिता भगत ने बताया कि ऑनलाइन प्लैटफॉम्र्स से पतंजलि प्रॉडक्ट्स खरदीनेवालों को 5 गुना रिवॉर्ड पॉइंट्स के साथ-साथ कैशबैक दिया जाएगा।

अन्य खबर