गैम्बलिंग के जन्नत मकाऊ की सैर
18 Jul 2017
पूर्वी संस्कृति और पश्चिमी विरासत का लाजवाब मिश्रण मकाऊ एक ऐसी जगह है, जहां पारंपरिक और आधुनिक विचार एक साथ फलफूल रहे हैं. मकाऊ में सैलानियों को देखने के लिए बहुत कुछ है. यह पूर्व पुर्तगाली उपनिवेश, जो अब चीन का हिस्सा है और मौजूदा दौर में एशिया के सबसे लोकप्रिय यात्रा ठिकानों में गिना जाता है. अतीत के निशां मकाऊ का एक मशहूर आकर्षण है सैंट पॉल्स के खंडहर. जब भी जाइए यहां सैलानियों का जमघट लगा रहता है. मूल रूप से ईसाई पादरी सैंट पॉल्स द्वारा वर्ष 1580 में बनवाई गई इस इबादतगाह को उस समय एशिया के सबसे बड़े चर्च के रूप में ख्याति प्राप्त थी. वर्ष 1595 से 1835 के बीच तीन बार आग लगने के चलते इस चर्च की इमारत को काफी क्षति पहुंची है. इस समय इसका मुख्य द्वार और उसकी ओर जानेवाली ६६ सीढ़ियां ही सलामत बची हैं. मुख्य द्वार को सजावटी वस्तुओं से अलंकृत किया गया है. बाइबल से प्रेरित चित्र बनाए गए हैं. पौराणिक करिदारों का वर्णन है. चीनी अक्षर और जापानी फूल खुदे हुए हैं. साथ ही पुर्तगाली जलयान और चीनी शेरों के चित्र भी इस द्वार की शोभा बढ़ाते हैं. सैंट पॉल्स के खंडहरों को यूनेस्को ने वर्ष २००५ में विश्व धरोहर का दर्जा दिया था. ड्रैगन डांस इस फोटो में आप पारंपरिक चीनी ड्रैगन डांस की झलक देख सकते हैं. इस डांस का प्रदर्शन मिड-ऑटम फेस्टिवल के दौरान किया जाता है. यह फेस्टिवल लूनर कैलेंडर (चंद्र पंचांग) के आठवें महीने के पंद्रहवें दिन आयोजित किया जाता है. इस फेस्टिवल के दौरान शहर भर में परेड निकाली जाती हैं और ड्रैगन डांस किया जाता है. लोग रंगबिरंगे कंदील लगाकर और मून केक्स (एक पारंपरिक चाइनीज पैस्ट्री) बनाकर चांद और अन्य देवताओं की पूजा करते हैं. मिलाजुला जायका 16वीं सदी में पुर्तगाली जहाजियों ने पूर्वी एशिया और पश्चिमी दुनिया के बीच मसालों के व्यापार के लिए एक समुद्री मार्ग तय किया था. मकाऊ के व्यंजनों पर पुर्तगाल की छाप स्पष्ट रूप से देखी जा सकती है. यहां का एक लोकप्रिय नाश्ता है एग टार्ट. यह पारंपरिक पुर्तगाली कस्टर्ड पेस्ट्री पेस्टल डे नाटा का पूर्वी अवतार है, जिसे पपड़ीदार पेस्ट्री में मीठे कस्टर्ड की फिलिंग करके बनाया जाता है. पुर्तगाली झलक 442 वर्षों तक पुर्तगाल का उपनिवेश रहने के बाद वर्ष 1999 में मकाऊ शहर और उसकी 4 लाख आबादी को पीपल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना में बतौर विशेष प्रशासकीय क्षेत्र के रूप में शामिल कर लिया गया. पर अब भी यहां के जर्रे-जर्रे में आपको पुर्तगाली संस्कृति की झलक मिल जाएगी. यहां के स्थानीय लोगों पर पुर्तगाली संस्कृति का प्रभाव आसानी से देखा जा सकता है. स्थानीय सांस्कृतिक महोत्सवों के दौरान मकाऊ के निवासी पुर्तगाल के पारंपरिक पोशाक पहनकर सैंट पॉल्स चर्च के खंडहरों के सामने नृत्य करते हैं. गैम्बलिंग का स्वर्ग जैसे ही शाम ढलने लगती है मकाऊ का रूपांतरण एक चमक-दमक से भरे शहर में हो जाता है. शहर गैम्बलिंग (जुआ खेलना), मनोरंजन और पार्टीज का अड्डा बन जाता है. पर्यटन के चलते होनेवाली आमदनी का 50 प्रतिशत हिस्सा गैम्बलिंग से ही आता है. लग्जीरियस होटल्स के कसीनो, शहर में पसरे सैकड़ों गेमिंग रूम्स शाम को दुनियाभर से आए सैलानियों से खचाखच भर जाते हैं. ए-मा की आराधना मकाऊ के ए-मा नामक गांव में आप श्रद्धालुओं और सैलानियों की चहल-पहल देख सकते हैं. यहां जहाजियों की देवी ए-मा (टिन हाउ) की आराधना की जाती है. ऐसी मान्यता है कि हजार वर्ष पहले यहां ए-मा का जन्म हुआ था. इस गांव में बेल टावर, ड्रम टावर और टिन हाउ का महल दर्शनीय है. यहां का संग्रहालय भी मशहूर है. दुनिया से ऊपर यदि आप साहसिक गतिविधियों में रुचि रखते हैं तो 233 मीटर ऊंचे मकाऊ टावर के ओपन वॉकवे पर चहलकदमी कर आएं. यह वॉकवे 1.8 मीटर चौड़ा है और इसके आसपास हैंडरेलिंग नहीं है. लोगों को स्कायवॉक पर छोड़ने

अन्य खबर