श्रद्धालुओं को आकर्षित करता सूर्य मंदिर
09 Oct 2017
-मनोज कपरदार- झारखंड की राजधानी रांची से लगभग 40 किमी की दूरी पर रांची टाटा रोड पर बुंडू अनुमंडल के एदलहातू गांव में सूर्य मंदिर स्थित है। मंदिर की भव्यता इतनी कि देखने वालों की आंखे खुली ही रह जाती है। सात घोडे़ और अठारह पहिये के रथ पर भगवान सूर्य को दर्शाया गया है। मुख्य पथ से मंदिर तक पहुंचने के लिए कच्ची सड़क है। मंदिर का निर्माण कार्य 1989 से शुरू हुआ था। मंदिर 10 जुलाई 1994 में तैयार हुआ। यह मंदिर 11 एकड़ में फैला हुआ है। मंदिर निर्माण के लिए तमाड़ के जमींदार प्रधान सिंह मुंडा ने भूमि दान की थी। मंदिर लगभग 108 फीट की उंचाई पर स्थित है। दूर से ही सप्तरथी (सात घोड़ों पर सवार सूर्य भगवान) का दर्शन होता है। मंदिर के प्रवेश द्वार पर बजरंगबली की मूर्ति है। मंदिर के भीतर प्रवेश करने पर सबसे पहले भगवान भास्कर का दर्शन होता है। इसके बाद भगवान विष्णु, गणेश और मां दुर्गा की मूर्तियां स्थित हैं। मंदिर के पुजारी के अनुसार सुबह साढ़े पांच बजे मंदिर में पूजा होती है और शाम छह बजे संध्या आरती होती है। इस अवसर पर आसपास के काफी संख्या में भक्तगण जमा हो जाते हैं। श्री पाठक ने बताया कि इस मंदिर में राज्य के अलावा बाहर के लोग भी शादी-विवाह करने आते हैं। उन्होंने बताया कि टुसू मेला के अवसर पर लोग खास तौर पर वर-वधु की तलाश में आते हैं। यहां का टुसू मेला पूरे राज्य में प्रसिद्ध है। राज्य के कोने-कोने से लोग यहां आते हैं। छठ के अवसर पर राजधानी रांची से भी लोग यहां जाते हैं। सूर्य सरोवर नामक तालाब में भक्तगण भगवान भास्कर को अर्घ्य देते हैं। मंदिर को संस्कृति विहार के सौजन्य से चलाया जा रहा है। इसके अध्यक्ष सांसद अजय मारू व प्रभारी राम दुर्लभ सिंह मुंडा हैं। मंदिर परिसर में सांसद कोष से गार्डन बनवाने की भी घोषणा की गयी है। मंदिर परिसर में ही भास्कर सरस्वती शिशु मंदिर संस्कृति विहार के सौजन्य से चलाया जा रहा है। शिशु मंदिर में मैट्रिक तक की पढ़ाई होती है। यहां बुंडू, सोनाहातू, तमाड़, अड़की प्रखंड के कई गांवों के बच्चे पढ़ने आते हैं। बच्चों के लिए यहां छात्रावास की भी सुविधा है। श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए यहां चार यात्री शेड बनाये गये हैं। पेयजल के लिए चापानल है। मंदिर में संगमरमर का हॉल में आराम करते हैं। यहां विदेशी पर्यटक भी आते हैं। झारखंड सरकार पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए कई योजना बना रही है।

अन्य खबर