महंत नरेंद्र गिरि की सुरक्षा में तैनात 11 सुरक्षाकर्मी भी शक के घेरे में,गिर सकती है गाज
23 Sep 2021, 134
प्रयागराज।साधु-संतों की शीर्ष संस्था अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध परिस्थितियों हुई मौत के मामले में सीबीआई जांच की संस्तुति योगी सरकार ने कर दी है। नरेंद्र गिरि की मौत हत्या या आत्महत्या थी अब ये मामला सीबीआई के पास पहुंच गया है। सीबीआई अब इसकी जांच करेगी।महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत पर कई सवाल खड़े हो रहे हैं।उसमें से एक ये भी है कि नरेंद्र गिरि को सरकार ने वाई श्रेणी की सुरक्षा दी थी और 11 सुरक्षाकर्मी 24 घंटे तैनात रहते थे।अब ऐसे में बड़ा सवाल उठ रहा है कि अगर नरेंद्र गिरि ने फांसी लगाई तो उस समय सुरक्षाकर्मी कहा थे।पुलिस नरेंद्र गिरि की सुरक्षा में तैनात गनर अजय सिंह, मनीष शुक्ल सहित चार सुरक्षाकर्मियों से पूछताछ भी कर चुकी है।

आपको बता दें कि कुछ सुरक्षाकर्मी एस्कॉर्ट में तैनात होते हैं,कुछ मौके पर सुरक्षा में रहते हैं और कुछ की तैनाती आश्रम के अंदर रहती है।अब ये भी जांच की जा रही है कि घटना के समय सुरक्षाकर्मी कहा थे।

प्राप्त जानकारी के अनुसार अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की वाई श्रेणी की सुरक्षा में तैनात सभी 11 सुरक्षा कर्मियों से पुलिस पूछताछ करेगी और उनकी भूमिका की भी जांच होगी कि मौत के समय सभी सुरक्षाकर्मी कहा पर थे।भूमिका संदिग्ध होने पर नरेंद्र गिरि की सुरक्षा में तैनात सुरक्षा कर्मियों पर लापरवाही बरतने के आरोप में गाज भी गिर सकती है।

आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोप में गिरफ्तार स्वामी आनंद गिरि ने भी नरेंद्र गिरि की सुरक्षा में तैनात गनर अजय सिंह और मनीष शुक्ल पर हत्या की साजिश का आरोप लगाया था। आनंद गिरि ने कहा था कि गुरूजी आत्महत्या नहीं कर सकते। उनकी हत्या कर उन्हें फंसाया जा रहा है। इस पूरी साजिश में गनर अजय सिंह और मनीष शुक्ल शामिल हो सकते हैं। आनंद गिरि ने कहा था कि महाराज जी ने मनीष शुक्ल की शादी करवाई थी और पांच से सात करोड़ रुपए घर बनवाने के लिए भी दिया था।
(स्वराज सवेरा)

चर्चित वीडियो
अन्य खबर