वैदिक पुजारी का काम पूजा-पाठ और चिकित्सा भी
26 Mar 2022
वैदिक पुजारी पूजा-पाठ के साथ-साथ आयुर्वेद चिकित्सा के माध्यम से वैद्य का काम भी किया करते थे । उस काल से ही चिकित्सक सर्जन स्वास्थ्य को आध्यात्मिक जीवन का भी अभिन्न अंग मानते थे और इसी हेतु उन्होंने उपचार रोकथाम दीर्घायु और शल्य चिकित्सा का ज्ञान प्राप्त किया । बाद में यह दिव्य रहस्य पुस्तकों के रूप में भी लिखे गए थे जो आज भी प्रयोग में लाए जाते हैं । रोचक बात यह है कि आयुर्वेद में चिकित्सा जड़ी बूटियो, खाद्य पदार्थों, रंग, सुगंध इन सब के माध्यम से की जाती है । आयुर्वेद में शल्य चिकित्सा का उपयोग भी है ।

वैज्ञानिक रूप से सत्यापित

आयुर्वेद के विद्यालयों ने आयुर्वेद को वैज्ञानिक रूप से सत्यापित और वह विकृत चिकित्सा प्रणाली बनाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया है । यह दो प्रमुख विद्यालय हैं ,
1. आत्रेय अर्थात चिकित्सकों का स्कूल
2. धनवंतरी अर्थात सर्जनों का स्कूल
ब्रह्मा को सृष्टि के निर्माता के रूप में जाना जाता है और यह भी कहा जाता है कि जीवन के आगमन के साथ ही रोगों का भी जन्म हुआ । इन्हीं रोगों से बचाव के लिए ब्रह्मा ने आयुर्वेद का ज्ञान प्रजापति को दिया था उसके बाद यह अश्विनीकुमारों, इंद्र , भारद्वाज, अत्रेय पुनर्वसु तक पहुंचा ।
अत्रेय- पुनर्वसु के छह शिष्य थे- अग्निवेश, भेल, जातुकर्ण, पराशर, हरती और क्षारापाणि। आयुर्वेद के विकास में इन सभी का योगदान है। अग्निवेश सबसे बुद्धिमान थे और उनके संकलन को “अग्निवेश संहिता” या “अग्निवेश तंत्र” के रूप में जाना जाता है। आचार्य चरक ने इस पाठ का संपादन किया और कुछ भाष्य भी जोड़े, जिसे बाद में “चरक संहिता” के नाम से जाना गया। शल्य चिकित्सा की बात करें तो सुश्रुत जोकि धनवंतरी के शिष्य थे , उनका इस क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान है और यह सुश्रुत संहिता के माध्यम से जाना जा सकता है । आयुर्वेद में तीसरा प्रमुख ग्रंथ अंगहृदयम है , जो चरक और सुश्रुत के कार्यों का एक संक्षिप्त संस्करण बाग्भट द्वारा लिखा गया है ।

विशेषता :

प्राचीन भारतीय चिकित्सा प्रणाली धर्मनिरपेक्ष चिकित्सा की विशेषता के साथ-साथ धार्मिक प्रथाओं को भी सम्मिलित किया था । उन्होंने दवा के साथ-साथ मंत्रों का भी प्रयोग किया । रोगी को देखने के साथ-साथ उनके प्राकृतिक वातावरण को भी देखा जाया जाना चाहिए , ऐसा उनका मानना था । चरक संहिता में 500 तो वही सुश्रुत संहिता में 700 से अधिक औषधियों का उल्लेख है । स्टील उपकरणों से घाव को सिला जाना , तरल पदार्थ निकालना , गुर्दे की पथरी हटाना और प्लास्टिक सर्जरी की जाती थी |

आज भी सामयिक और प्रासंगिक

आयुर्वेद आज भी सामयिक और प्रासंगिक है । भारत के साथ-साथ पश्चिम में उपयोग किए जाने वाले कई वैकल्पिक उपचार केंद्रों में इसका प्रयोग होता है । यह दर्शाता है कि भारत चिकित्सा में भी प्राचीन काल से ही धनी रहा है।
(PBNS)

अन्य खबर