कानपुर।बुजुर्ग दंपती की हत्या कर लूटे 10 लाख
14 Jan 2023, 91
बदमाशों ने कहा- शोर मचाया तो तुम्हारे पति को गोली मार देंगे, बुजुर्ग दंपती की हत्या कर लूटे 10 लाख

कानपुर।उत्तर प्रदेश के कानपुर के ककवन थाना क्षेत्र के फत्तेपुर गांव में गुरुवार देर रात बुजुर्ग दंपती की हत्या कर 10 लाख लूटने के मामले में पुलिस ने पीड़िता के बयान लिए हैं। पुलिस को शक है कि घटना में किसी करीबी का हाथ है। बता दें कि बदमाशों ने पहले से रेकी कर रखी थी,क्योंकि उन्हें पता था कि राज कुमार खेत में रखवाली के लिए गया है। घर में बहू और बुजुर्ग दंपती हैं। हत्यारों को यह भी पता था कि दो दरवाजों में से कौन सा दरवाजा खटखटाएंगे तो बुजुर्ग दंपती निकलेंगे।

सपना ने पुलिस को बताया कि जब उसने शोर मचाने की कोशिश की तो एक बदमाश ने धमकी दी कि अगर उसने शोर मचाया तो खेत की रखवाली करने गए उसके पति को गोली मार देंगे।धमकी से डरी सपना चुपचाप कमरे में दुबक गई।

सपना ने पुलिस को आगे बताया कि काफी देर बाद जब उसको लगा कि बदमाश चले गए तब उसने खुद कोे बंधन से मुक्त किया, इसके बाद जब वह सास-ससुर के पास पहुंची तो उनका शव देख होश उड़ गए।वह शोर मचाते हुए बाहर की ओर भागी। इसके बाद गांव में हड़कंप मच गया।घटना की सूचना पर घर पहुंचा राज कुमार माता-पिता का शव देख बदहवास हो गया।

खोजी कुत्ता घटनास्थल से खेतों की तरफ गया फिर वापस आ गया। वहीं फील्ड यूनिट टीम को अलमारी से दो लोगों के फिंगरप्रिंट मिले हैं। पूरे घटनाक्रम में कई ऐसे सवाल हैं,जिसके जवाब पुलिस खोज रही है। पुलिस के एक अधिकारी की माने तो बहू सपना के बयानों में विरोधाभास है। बदमाशों ने उसे बंधक बना लिया था। बदमाशों के भागने के बाद सपना कैसे बंधन मुक्त हुई।इस बारे में पुलिस अफसरों ने विस्तार में समझा।

पुलिस के एक अधिकारी के मुताबिक बदमाश बड़े आराम से लूटपाट करके भाग सकते थे। ऐसे में उन्होंने सिर्फ बुजुर्ग दंपती की ही हत्या क्यों कि ये सवाल पुलिस अफसरों को खटक रहा है। बहू सपना के अनुसार रात करीब एक बजे उसने आवाज सुनी थी, उसके करीब बीस मिनट बाद बदमाश ऊपर आए। बदमाश बुजुर्ग दंपती को बड़े आराम से बंधक बनाकर लूटपाट कर सकते थे तो हत्या क्यों की।बदमाश नकाबपोश थे तो बुजुर्गों का उन्हें पहचानना भी मुश्किल था।

पुलिस कमिश्नर बीपी जोगदंड ने बताया कि वारदात के खुलासे के लिए तीन टीमें बनाई गईं हैं। रंजिश, आशनाई समेत परिवार के पुराने विवादों को भी खंगाला जा रहा है। परिजनों के बयान के आधार पर फिलहाल जांच शुरू कर दी गई है।

बता दें कि बीडीसी सदस्य राज कुमार का परिवार काफी संपन्न माना जाता है।पिता छम्मीलाल पत्नी इमरती के साथ नीचे कमरे में ही रहते थे। ग्रामीणों ने बताया कि देर रात तक गांव के लोग अक्सर सामान लेने के लिए छम्मीलाल को आवाज लगा देते थे।कुछ दिनों से ठंड की वजह गेट नहीं खोल रहे थे। पुलिस को शक है बदमाशों ने गेट खुलवाने के लिए किसी परिचित का नाम लिया होगा।

चर्चित वीडियो
अन्य खबर